राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ये 10 अनमोल विचार जानते हैं आप?

महात्मा गांधी के अनमोल वचन

इन्सान महान पैदा नहीं होता है,उसके विचार उसे महान बनाते हैं. विचार और काम की शुद्धता और सरलता ही महान लोगों को आम लोगों से अलग करती है. वे वही काम करते हैं, जो दूसरे करते हैं, लेकिन उनका मकसद समाज में बदलाव लाना होता है.

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी, जिन्हें प्यार से हम ‘बापू’ कहते हैं, महान सोच वाले एक साधारण व्यक्ति थे. वे करोड़ों देशवासियों के जीवन में बदलाव लाना चाहते थे.

आज हमें जो आजादी हासिल है, उसके लिए राष्ट्रपिता ने बड़ी कुर्बानियां दी थीं. वे सबके साथ मिलकर चलना चाहते थे. आज हम परिवार के अंदर बंट गए हैं, खुद को कंप्यूटर तक सीमित कर लिया है और स्मार्टफोन को अपनी दुनिया बना ली है.

  • इन जंजीरों से निकलने में बापू के विचार हमारे लिए मददगार साबित हो सकते हैं. गांधीजी जो कहते थे, वह करते थे.

 

यहां हम उनके कुछ प्रेरक वचन हे हैं, जो हमारी आंखें खोल सकते हैं.

  1. व्यक्ति अपने विचारों के सिवाय कुछ नहीं है. वह जो सोचता है, वह बन जाता है.।
  2. कमजोर कभी क्षमाशील नहीं हो सकता है. क्षमाशीलता ताकतवर की निशानी है.
  3. ताकत शारीरिक शक्ति से नहीं आती है. यह अदम्य इच्छाशक्ति से आती है.


4. धैर्य का छोटा हिस्सा भी एक टन उपदेश से बेहतर है.

5. गौरव लक्ष्य पाने के लिए कोशिश करने में हैं, न कि लक्ष्य तक पहुंचने में.

6. आप जो करते हैं वह नगण्य होगा. लेकिन आपके लिए वह करना बहुत अहम है.

7. हम जो करते हैं और हम जो कर सकते हैं, इसके बीच का अंतर दुनिया की ज्यादातर समस्याओं के समाधान के लिए पर्याप्त होगा.

8.किसी देश की महानता और उसकी नैतिक उन्नति का अंदाजा हम वहां जानवरों के साथ होने वाले व्यवहार से लगा सकते हैं.

9.कोई कायर प्यार नहीं कर सकता है; यह तो बहादुर की निशानी है.

10.बापू ने कहा कि स्वास्थ्य ही असली संपत्ति है, न कि सोना और चांदी.

प्री-प्राइमरी में भी हो रही टीईटी (TET) की तैयारी, शिक्षामित्रों को झटका

TET होगा अनिवार्य

TET EXAM in pre primary School.        उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 लागू करने की तैयारी हो रही है। इसके तहत बेसिक शिक्षा विभाग ने जो प्रावधान किए हैं  उसमें पूर्व प्राथमिक शिक्षा कक्षा 12 तक के शिक्षकों के चयन के लिए टीईटी(TET) अनिवार्य किया जाना है। इसी प्रावधान ने 1.30 लाख शिक्षामित्रों की पूर्व प्राथमिक में समायोजन की आखिरी उम्मीद भी तोड़ दी है।

27 जुलाई 2017 को सुप्रीम कोर्ट से बगैर टीईटी(TET) सहायक अध्यापक पद पर समायोजन निरस्त होने के बाद 1.37 लाख शिक्षामित्रों के सामने संकट पैदा हो गया था।
प्रदेश सरकार ने पिछले साल अक्तूबर में 1.89 लाख  आंगनबाड़ी को प्री-प्राइमरी स्कूल बनाने का निर्णय लिया था। नई नीति में 3 से 6 वर्ष की आयु वर्ग को प्री प्राइमरी स्कूल में शिक्षा देना अनिवार्य है। 


शिक्षामित्रों को उम्मीद जगी थी कि पूर्व प्राथमिक स्कूलों में परिवर्तित हो रहे आंगनबाड़ी में समायोजन हो जाएगा।सात हजार शिक्षामित्रों को 68,500 भर्ती में नौकरी मिल गई शेष 1.30 लाख संघर्ष कर रहे हैं। टीईटी(TET) नहीं करने के कारण समायोजन निरस्त हुआ था। 

TET की अनिवार्यता



महानिदेशक स्कूली शिक्षा विजय किरन आनंद ने एक सितंबर को सभी डीएम को पत्र लिखकर पंचायती राज संस्थाओं के माध्यम से राष्ट्रीय शिक्षा नीति लागू करने के उद्देश्य से किए प्रावधान,कार्य योजना के प्रचार-प्रसार और विस्तृत चर्चा के निर्देश दिए हैं। उसी पत्र में पूर्व प्राथमिक से कक्षा 12 तक टीईटी (TET)अनिवार्य करने की भी बात है।



1.70 लाख में से 1.37 लाख हुए थे समायोजित


प्रदेश के प्राथमिक स्कूलोंमें 2001 से विभिन्न चरणों में प्रदेश में 1.70 लाख शिक्षामित्र नियुक्तहुए थे। इनमें से 1.37 लाख का समायोजन हो सका था जो बाद में निरस्त हो गया। शेष 33 हजार शिक्षामित्र पूर्व की स्थिति में हैं।



शिक्षामित्रों की नियुक्ति कक्षा एक एवं दो के बच्चों को पढ़ाने के लिए की गई थी जिसका उन्हें 20 वर्ष का अनुभव है। ऐसे में राज्य सरकार को चाहिए कि प्री-प्राइमरी में शिक्षामित्रों को समायोजित कर उनका भविष्य सुरक्षित करे। टीईटी(TET) नए अभ्यर्थियों पर लागू हो शिक्षामित्रों पर नहीं।~ रिजवान अंसारी

कोरोना से एक और शिक्षक की मौत

फरुर्खाबाद जिले के एक और शिक्षक की शनिवार को सैफई में इलाज के दौरान मौत । अब तक जिले में कोरोना से 38 लोगों की मौत हो चुकी है।आज नए 60 मामले सामने आने के साथ ही कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 1776 हो गई है। कई नए कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं।

नरायन मिश्र का अंतिम संस्कार करते स्वास्थ्य कर्मचारी

शिक्षक बना कोरोना का शिकार

राजेपुर ब्लाक के कुसुमापुर गांव में तैनात शिक्षक नरायन मिश्रा को 20 दिन पहले बुखार आया था। वह ARP पद पर तैनात थे। हालत बिगड़ने पर उन्हें सैफई ले जाया गया। जांच में वह पॉजिटिव निकले।शनिवार सुबह मौत हो गई।
शिक्षकों ने नम आंखों से शोक संवेदना प्रकट किया और

कोरोना काल के दौरान शिक्षको को बिना किसी सुरक्षा के ड्यूटी के लिए हाजिर होने के आदेश के प्रति रोष व्यक्त किया।

68500 शिक्षक भर्ती पुनर्मुल्यांकन में सफल अभ्यर्थियों का काउंसलिंग कर नियुक्ति न देंने पर कोर्ट सख्त

UP pcs students

बेसिक शिक्षा परिषद के प्राथमिक विद्यालयों में 68500 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा के पुनर्मुल्यांकन में सफल अभ्यर्थियों की काउंसिलिंग न होने पर इलाहाबाद हाईकोर्ट ने नाराजगी जताई है।

कई बार समय देने के बावजूद आदेश का पालन न करने पर कोर्ट ने अंतिम अवसर देते हुए सख्त चेतावनी दी है, साथ ही कहा है कि यदि आदेश का पालन नहीं किया गया तो बेसिक शिक्षा निदेशक के खिलाफ जमानती वारंट जारी किया जाएगा।

यह आदेश न्यायमूर्ति अश्वनी कुमार मिश्र ने नेहा परवीन की याचिका पर दिया है। अगली सुनवाई 14 अक्टूबर को होगी।

याची का कहना है कि कोर्ट आदेश से पुनमरूल्यांकन में उसका एक अंक बढ़ाया गया है। इससे वह काउंसिलिंग के लिए बुलाने की हकदार हो गयी हैं।

  • इस पर कोर्ट ने 30 जुलाई को याची को काउंसिलिंग के लिए बुलाने का आदेश दिया था।

  • पालन न करने पर कोर्ट ने दो सितंबर को पुन: आदेश का पालन करने या इसका पालन न करने का कारण बताने का निर्देश देते हुए जवाब मांगा था। लेकिन, न तो जवाब दिया न ही आदेश का पालन किया गया।

  • पालन न करने पर कोर्ट ने दो सितंबर को पुन: आदेश का पालन करने या इसका पालन न करने का कारण बताने का निर्देश देते हुए जवाब मांगा था। लेकिन, न तो जवाब दिया न ही आदेश का पालन किया गया।
  • गुरुवार को सुनवाई के दौरान सरकारी वकील ने बताया कि अधिकारी से वार्ता न हो पाने से आदेश का पालन नहीं किया जा सका है। इस पर कोर्ट ने आदेश के पालन का अंतिम अवसर दिया है।

    शिक्षकों से ठगी का नया तरीका

    ठगों के द्वारा स्कूल की जानकारी भरने के नाम से शिक्षकों को फोन किए जा रहे हैं,मानव सम्प़दा कोड डाइस कोड , यूनिक कोड, स्कूल का नाम पद और अंत में समस्त जानकारी लेने के बाद शिक्षक समझता है कि कोई विभाग से जानकारी मागी जा रही है ,फिर विश्वास में लेकर मोबाइल पर आया ओटीपी मांगते हैं और उनके खाते से राशि निकाली जाती है।

    ऐसा ही केस शासकीय माध्यमिक विद्यालय रैसलपुर(जिला होशंगाबाद)की शिक्षिका श्रीमती शांति बाथम के साथ किया गया, उनके खाते से ₹ 95000 निकाल लिए गए

    फोन पर जानकारी लेकर ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामले सामने आते रहे हैं लेकिन धोखधड़ी के माध्यमिक विद्यालय में पदस्थ सहायक अध्यक्ष शांति बाथम के साथ ऐसे ही धोखाधड़ी हुई हैं
    जहां एक दिन पहले किसी अज्ञात व्यक्ति ने फोन करके एटीएम अपडेट करने के नाम पर जानकारी ली और बाद में ओटीपी भी पूछ लिया। शिक्षिका को कुछ समझ आता इससे पहले ही उनके खाते से 95 हजार रूपए निकलने का मैसेज आ गया। पीडि़त शिक्षिका ने बैंक के साथ ही पुलिस थाने में मामले की शिकायत की।

    शिक्षिका को यूडायस कोड और मानव सम्प़दा कोड बताकर लिया विश्वास में

    शिक्षिका के पास 13 तारीख को सुबह 10 बजे फोन आया। अज्ञात व्यक्ति ने एटीएम अपडेशन के नाम पर जानकारी मांगी तो शिक्षिका ने बिना कोई जानकारी बताए फोन काट दिया।

    आरोपी ने दोबारा फोन लगाया और शिक्षिका के नाम, पदनाम, पदस्थ स्कूल और गोपीनीय युनिक आइडी भी बताई। इतनी जानकारी सुन शिक्षिकों को विश्वास हो गया कि ये बैंक से ही फोन आया है और उन्होंने पूरी जानकारी बता दी।

    क्या कहा शिक्षिका ने

    मेरे पास फोन आया उन्होंने मानव सम्प़दा आईडी,यूडायस कोड,यूनिक कोड सहित अन्य जानकारी बताई तो मुझे लगा कि बैंक से ही फोन आया होगा। मैने जानकारी बताई और मेरे खाते से 95 हजार रूपए कट गए।

    बैंक का क्या है कहना

     देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) ने एक बार फिर अपने 42 करोड़ से ज्यादा ग्राहकों को अलर्ट किया है.
    एसबीआई (SBI) ने अपने ताजा अलर्ट में ग्राहकों से कहा कि वो अपने कार्ड की जानकारी खुद तक ही सीमित रखें. इसे किसी दूसरों के साथ शेयर न करें. क्योंकि देश का केंद्रीय बैंक भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) कहता है कि आप अपने सभी बैंक डिटेल्स के एकमात्र संरक्षक हैं.

    SBI ने ट्वीट में क्या लिखा


    SBI ने अपने ट्वीट में लिखा, आपको अपने बैंक डिटेल्स जैसे, पासवर्ड (Password), पिन (PIN), ओटीपी (OTP), सीवीवी (CVV), यूपीआई-पिन (UPI-PIN) आदि की जानकारी सिर्फ खुद को होनी चाहिए, किसी दूसरे को नहीं. एसबीआई ने बताया कि RBIKehtaHai कि जानकार बनिए, सतर्क रहिए!




    बैंक को तुरंत दें सूचना


    SBI ने अपने दूसरे ट्वीट में ग्राहकों को बताया कि अगर आपके बैंक खाते में धोखाधड़ी होती है तो इसकी सूचना तुरंत अपने बैंक को दें. RBIKehtaHai कि आपकी ओर से जल्दी सूचना मिलने पर हम अपनी तरफ से इस पर तत्काल कार्रवाई कर सकते हैं. अपने खाते में किसी भी अनधिकृत गतिविधि के लिए सतर्क रहें और हमें तुरंत सूचित करें.

    ये SMS खाली कर सकता है आपका बैंक अकाउंट


    बता दें कि एसबीआई ने हाल ही में अपने ग्राहकों को इनकम टैक्स रिफंड (Income Tax Refund) के नाम पर हो रही धोखाधड़ी को लेकर सावधान किया था.

    टैक्स रिफंड के नाम पर इस तरह की धोखाधड़ी से बचने के लिए SBI ने ग्राहकों कहा था कि वो ऐसे किसी भी मैसेज में दिए गए लिंक पर क्लिक न करें, जहां उनसे टैक्स रिफंड के बारे में रिक्वेस्ट डालने की बात कही गई हो. दरअसल, कई लोगों को ऐसे मैसेज आ रहे हैं, जिसमें कहा गया है कि दिए गए लिंक पर क्लिक कर आप अपने इनकम टैक्स रिफंड के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं.