उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों के लिये👆 कैशलेस कार्ड बनने के लिए वेबसाइट प्रारंभ हो गयी है ।,परिषदीय शिक्षक भी

पण्डित दीनदयाल उपाध्याय राज्य के कर्मचारी चिकित्सक योजना

नियंत्रण नियम 07, 2022 में स्टेट्स के राज्य के स्वामित्व वाली दवा, दवा के स्वामित्व वाली दवा को दवा में शामिल किया जाएगा। 

Apply here

पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना के बारे में

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा जारी शासनादेश दिनांक 07 जनवरी 2022 द्वारा उत्तर प्रदेश राज्य के सरकारी कर्मचारियों, सेवानिवृत्त सरकारी कर्मचारियों और उनके आश्रित परिवारों को कैशलेस चिकित्सा सुविधा प्रदान की गई है। यह सुविधा आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत सूचीबद्ध सभी निजी अस्पतालों और सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध होगी। https://uppssms.com/2022/01/29/69000/

निजी अस्पतालों में प्रत्येक लाभार्थी परिवार को प्रतिवर्ष 5 लाख रुपये तक का कैशलेस चिकित्सा उपचार उपलब्ध होगा। जबकि सरकारी चिकित्सा संस्थानों/अस्पतालों में बिना किसी वित्तीय सीमा के कैशलेस इलाज उपलब्ध होगा। योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए प्रत्येक पात्र लाभार्थी के पास राज्य स्वास्थ्य कार्ड होना अनिवार्य है।

पंडित दीनदयाल उपाध्याय राज्य कर्मचारी कैशलेस चिकित्सा योजना की मुख्य विशेषताएं।

(1). यह योजना यूपी राज्य सरकार के कर्मचारियों, सेवानिवृत्त राज्य सरकार के कर्मचारियों और उनके आश्रितों को कैशलेस उपचार की सुविधा प्रदान करती है।

(2). आयुष्मान पैनल में शामिल निजी और सरकारी अस्पतालों में कैशलेस इलाज की सुविधा उपलब्ध है।

(3).  पाच लाख रुपये तक कैशलेस उपचार। आयुष्मान भारत के तहत सूचीबद्ध निजी अस्पतालों में प्रत्येक लाभार्थी को प्रति परिवार 5 लाख रुपये प्रति वर्ष उपलब्ध है।

(4). आयुष्मान भारत के पैनल में शामिल सरकारी मेडिकल कॉलेजों और सरकारी अस्पतालों में लाभार्थियों को बिना किसी वित्तीय सीमा के कैशलेस इलाज उपलब्ध होगा।

(5). सभी राज्य सरकार के कर्मचारी, सेवानिवृत्त राज्य सरकार के कर्मचारी और उनके आश्रित योजना के तहत कैशलेस उपचार के लिए पात्र हैं।

(6)। सभी राज्य सरकार के कर्मचारियों, सेवानिवृत्त राज्य सरकार के कर्मचारियों और उनके आश्रितों को एक राज्य स्वास्थ्य कार्ड दिया जाएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.