Skip to toolbar

नर्सरी स्कूल में बदले जाएंगे आंगनबाड़ी केंद्र,तीन मंडलों में कार्यकत्रियों का प्रशिक्षण शुरू

सभी आंगनबाड़ी केंद्र जल्द ही नर्सरी स्कूल में तब्दील होंगे। इसके लिए प्रथम चरण में कुल 1.87 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं/कार्यकत्रियों को बेसिक शिक्षा विभाग की ओर से प्रशिक्षण दिलाया जाएगा! इस बात की अटकलें लगाई जा रही हैं कि कोरोना संक्रमण की स्थिति सामान्य होते ही इसी सत्र से आंगनबाड़ी केंद्रों को नर्सरी स्कूलों में तब्दील कर दिया जाएगा। 

आगनबाड़ी

सरकार ने इसकी प्रक्रिया शुरू कर दी है। पहले चरण में पश्चिम के तीन मंडलों में आंगनबाडी़ कार्यकर्ताओं को इसका प्रशिक्षण दिया जा रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को छह दिन का ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जिसमें इन्हें बच्चों को खेल-खेल में पढ़ाने का तरीका बताया जा रहा है।

ऐसा स्वरूप रहेगा आंगनबाडी़ स्कूलों का-

प्री नर्सरी स्कूल की तर्ज पर इन आंगनबाडिय़ों का स्वरूप प्ले स्कूल जैसा रहेगा। महिला एवं बाल विकास विभाग प्ले स्कूल में आने वाले ३ से ६ वर्ष तक के बच्चों के लिए अलग से सिलेब्स तैयार करवा रहा है, ताकि बच्चों का पांच तरह का विकास हो सके।

इसके तहत बच्चों का शारीरिक, भाषायी, संज्ञानात्मक, सौंदर्य बोध और सामाजिक विकास किया जाएगा। इसके लिए आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को मोटिवेट कर ट्रेनिंग भी दी जा रही है। बच्चों को स्कूल यूनिफार्म, टाई व अन्य व्यवस्था भी जनसहयोग से किया जाएगा।

बच्चों के लिए होंगे ये बदलाव


* केंद्रो में इंडोर व आउटडोर गेम्स होंगे।
* बच्चों को आकर्षित करने वाली रंगीन दीवारें होगी।
* इन पर ज्ञानवर्धक पेंटिंग होगी।
* दीवारों पर वर्णमाला के अक्षर, अंग्रेजी वर्णमाला के लेटर अंकित रहेगा।
* कार्टून कैरेक्टर, पक्षी, फल, सब्जी, जानवरों के नाम सहित चित्रण होगा।
* बच्चों के अनुकूल शौंचालय, कक्षाएं रसोईघर का निर्माण होगा।
* खेल उपकरण, खिलौना, डिस्प्ले बोर्ड, कंप्यूटर आदि उपलब्ध होगा।

TELEGRAM

Join us TELEGRAM

देना होगा टेस्ट

सरकार की योजना के मुताबिक आंगनबाड़ी केंद्रों को प्लेग्रुप स्कूलों के तौर पर विकसित किया जाना है। इसकी अनुशंसा नई शिक्षा नीति में भी की गई है। इसी कड़ी में अब आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं/कार्यकत्रियों को प्रशिक्षित किया जा रहा है। इसके बाद टेस्ट लेकर यह भी जाना जाएगा कि प्रशिक्षण सही रहा है या नहीं।

आगनबाड़ी

प्रशिक्षित होने के बाद आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं/कार्यकत्रियों का टेस्ट लिया जाएगा। टेस्ट में पास आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को उनके केंद्रों पर प्री-नर्सरी व नर्सरी स्कूल चलाने की अनुमति दी जाएगी।

छह दिन का ऑनलाइन प्रशिक्षण

कैसे खेल-खेल में जानकारियां दी जा सकती हैं। जिस तरह वह पढ़ाई कराएंगी, उसका मूल्यांकन कैसे किया जाएगा ताकि वे ये सुनिश्चित कर सकें कि उनका पढ़ाया हुआ बच्चों की समझ में आया है या नहीं।  

   आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को छह दिन तक दो घंटे रोज ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसकी शुरुआत 9 सितंबर से की जा चुकी है। इसमें उन्हें बताया जा रहा है कि बच्चों को सिखाने का आसान तरीका क्या है। कैसे खेल-खेल में जानकारियां दी जा सकती हैं।

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.