🚩69000_शिक्षकभर्ती-कोर्टअपडेट🚩

 

5 फरवरी 2020

लखनऊ_खंडपीठ

अधिक से अधिक शेयर करे।

बहुप्रतीक्षित, बाहुचर्चित या यु कहे उत्तर सरकार की तथाकथित महत्वाकांक्षी शिक्षक भर्ती जो पिछले # 1_वर्ष 2 माह से लंबित है।

वह मुकदमा आज कोर्ट न०1 में द्वय न्यायधीश माननीय पंकज जायसवाल जी एव माननीय करुणेश पवार जी की बेंच में पूर्व निर्धारित आदेश आफ्टर फ्रेश केस के क्रम में हुई। तीन अलग अलग हुए परीक्षण के सार नीचे। के

☣️ # 5_f और 2020 पिछले 1 साल से शिक्षक भर्ती का मुद्दा माननीय उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ में लंबित। मुद्दा लंबित होना सरकार की अनदेखी एव कुछ टीमो के बचकाने हरकत का नतीजा हैं।

खैर सरकार को कोई दिलचस्पी नही थी अन्यथा याद होगा आप सब को #6जनवरी2019 का दिन सरकार को भर्ती परीक्षा करनी थी और 5 जनवरी को आदेश हुआ #टीईटी_2017 और ऑफलाइन अभ्यर्थियों के एडमिट कार्ड प्रयागराज से जारी हुए।

 

टॉप मोस्ट सीनियर #कालियासर ने कमान संभाली और कोर्ट क्रम वार आनन्द यादव के केस से उतपन्न हुए रिक्त पद और #अवैध शिक्षामित्रों की पटकथा का बिंदुवार एक एक पद कोर्ट के समक्ष रखा, कोर्ट के सामने

#MCD_आदेश,कुलभूषण आदेश,JPSCआर्डर जैसे महत्वपूर्ण आदेश पर कोर्ट को बिंदु स्पष्ट किए। साथ ही साथ कालिया जी ने #अनुभाग से संबंधित बातों को विभाग द्वारा तय एवं जारी पत्र के द्वारा स्पष्ट किया कि अनुभाग जैसा कोई मसला ही नही, जिसे विरोधी मुद्दा बना रहे है।

1 घंटे से ऊपर के अपने साबमिशन में कालिया साहब की बहस पूर्णतः #पासिंगमार्क पर रही एकदम सटीक हुई बहस सिर्फ पासिंग मार्क और उसे लगाने एव जारी करने जैसे मुद्दों को लेकर। उसके बाद #बीएडटीम की तरफ से टॉप मोस्ट सीनियर #प्रशांतचंद्रासाहब ने कमान संभाली और मुद्दे को एक तरह से जहाँ से कालिया साहब ने छोड़ा था उसके बाद केस प्रारम्भ किया।करीब 15 मीन की बहस के बाद अगली सुनवाई 6 फरवरी नियत हो गयी।

☣️ #6_फरवरी2020 6 फरवरी को अवशेष बचे बहस को पूर्ण करने के क्रम में चंद्रा साहब ने अपनी बात लंच के बाद प्रारम्भ की उन्होंने अपना पक्ष नियमावली में हुए संसोधन एव बी एड का बचाव करते हुए प्रारम्भ की उसके पश्चात उन्होंने #भारांक जैसे मुद्दे को चुना और उसके बाद उन्होंने अंत मे #पासिंगअंक पर कुछ महत्वपूर्ण आदेश के साथ अपना सब्मिशन कोर्ट के सामने रखा, उसके बाद

टॉपमोस्ट सीनियरजयदीप नारायणमाथुर साहब का टर्न था (बीएड टीम की अपनी रणनीति हो सकती है व्व किसी अन्य रणनीति से काम कर रहे हो या क्या मुद्दा था उसपे बात वही बता पाएंगे।) एवं बीटीसी टीम की रणनीति थी कि तिवारी जी को लास्ट में उतारा जाएगा लेकिन ऐन वक्त पे माथुर साहब के न होने की स्थिति में #90_97पासिंगअंक की कमान सीनियर अधिवक्ता #अनिलतिवारी जी ने संभाली और सबसे पहले डाइस पे जाते हुए उन्होंने कोर्ट से प्रार्थना की महोदय इसे जल्द सुन के खत्म किया जाए इसमें बच्चो और कोर्ट दोनों का समय नुकसान हो रहा कोर्ट ने इस बात को गाम्भीरत से लिया और मामले को सुनने के लिए अतिरिक्त समय दिया एयर तिवारी सर को शार्ट में सब्मिशन रखने हेतु निर्देशित भी किया। कुछ महत्वपूर्ण आदेश के साथ सरकार की शक्तियों को क्रमवार आदेश का सहारा लेते हुए कोर्ट के समक्ष रखे। #रिक्रूटमेंट शब्द को तिवारी जी ने कोर्ट के सामने स्पष्ट किया जिसके इर्द गिर्द सिंगल बेंच का आदेश लिखा गया। #स्टेटऑफराजस्थान का हवाला देते हुए पासिंग मार्क और अभ्यर्थियों के हित को कोर्ट को समझाया सरकार सर्वोत्तम का चयन करना चाहती है और वो सरकार का हक है। कोर्ट तिवारी सर के बोलने के कारण #शुक्रवार को केस आफ्टर फ्रेश लगा दी जबकि अमूमन केस शुक्रवार को नही लगते है।

☣️ #7_फरवरी2019 पूर्व में आदेशित 6 फरवरी के आदेश के क्रम में तिवारी सर ने फ्रेश के बाद कोर्ट मे उपस्थित होकर केस को पुनः छोड़े गए बिंदु से प्रारंभ किया लेकिन आज कोर्ट मामले को लेकर साजिश थी ।

कोर्ट ने तिवारी सर से सब्मिशन लिखिति में देने को बोला कई महत्वपूर्ण आदेश के ऑपरेटिंग पार्ट को पढ़ते हुए तिवारी सर ने बहस को जल्द समेटना चाह और करीब 30-35 के आर्गुमेंट के बाद उन्होंने अपना साबमिशन निम्न आदेशो को साथ पूरा कियाMaharashtra S.B.O.S. v. Paritosh Bajpai, State of Rajasthan v Sanyam Lodha ,Narinder S. Cradla v. Municipal Corprn ,SS Dogra v. Secretary ICAR, New Delhi ,Surinder Singh v, Union of lndia ,Yogesh Yadav n Union of India ,K Manjusree ,Hemani Malhotra ,Subhash Chandra Marwaha Vijay Kumar Balakrishna v. ,Modh Vinay Kumar Rajya Sabha v. Subhash Baloda पूरा किया और छुटे हुए बिंदु पर लिखिति के साथ जल्द कोर्ट को अवगत कराने की बात कही। ●● तिवारी सर के बाद टॉप मोस्ट सीनियर माथुर सर जो कोर्ट में उपस्थित थे डाइस पर पहुचे और कोर्ट को अवगत कराया कि हम विपक्ष का सब्मिशन होने के बाद अंत मे अपना साबमिशन देंगे।

आज ये बात स्पष्ट हो कोर्ट अब इस मामले को जल्द सुनेगी और #रिपीटआर्गुमेंट कदापि स्वीकर नही होंगे। इसी के साथ अगली सुनवाई #10_फरवरीसोमवारआफ्टरफ्रेशकेस

●® #विशेष:- सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि कोर्ट अब केस को प्राथमिकता में सुन रही है #सोमवार को उम्मीद कम थी लेकिन अब मामले को सोमवार को लगा दिया गया है और ध्यान दे कोर्ट रिपीट आर्गुमेंट कदापि नही सुनेगी…

कोर्ट ने विपक्ष के सीनियर अधिवक्ता उपेंद्र मिश्रा जी को बहस के लिए बोला है उम्मीद है अपना केस 11.00 से 11.30 तक टेक-अप हो जाएगा। और लंच से पहले या लंच के बाद 1 घंटे के अंदर मिश्रा जी की बहस समाप्त हो जाएगी। और अन्य अधिवक्ता बहस प्रारम्भ कर देंगे। अब आगे देखते है कौन बहस करता है।


पहले ही अपने पोस्ट में बताए थे … 9 परीक्षण जिसमें से 3 सुनवाई हुई है अभी तक 6 परीक्षण बाकी है उम्मीद है फरवरी तीसरे सप्ताह में आदेश सुरक्षित हो जाए बस उम्मीद की जाए जब तक पूर्ण न हो सिर्फ प्रार्थना और उम्मीद ही कर सकती है। विपक्ष की तरफ से वर्तमान में वर्तमान में निम्नलिखित काउंसिल बहस के लिए है।


🔹 ● उपेंद्र मिश्रा जी ● डॉ। एल पी मिश्रा जी ● एच एन साहब ● जी एस परिहार जी ● आनंद नंदन।
उम्मीद और आशा है कि फरवरी में आदेश सुरक्षित हो जाए।

जय_महाकाल

✍️ ★ ® @ √! पी @ πd £ ¥ ★

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.