UPSC: जब इंटरव्यू में पूछा गया ‘प्यार या जिम्मेदारी’ क्या है जरूरी? टॉपर ने दिया यह उत्तर

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC- यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन) परीक्षा में सफल होना आसान नहीं है। इसमें प्रिलिम्स, मुख्य और साक्षात्कार इन तीनों पड़ावों को पार जरूरी होता है। प्रीलिम्स और मुख्य परीक्षा में सफल होने के बावजूद उम्मीदवार साक्षात्कार में इंटरव्यूवर के सामने घबरा जाते हैं और अकसर अपना मौका गवा देते हैं।

इंटरव्यू में अक्सर नेताओं से ऐसे सवाल पूछने के लिए जाते हैं जिनके जवाब देना आसान नहीं होता है। जिससे उनकी मानसिक और क्षमता, निर्णय लेने की क्षमता का आंकलन किया जाता है। ऐसे में जो साहस और अपनी बुद्धि से काम लेता है वही सफल हो पाता है।

लेकिन कई बार पैनल द्वारा उम्मीदवारों को अच्छी सलाह भी दे दी जाती है। यहां हम बात कर रहे हैं एक ऐसे ही शख्स की जिनके इंटरव्यू के दौरान साक्षात्कारकर्ताओं ने अच्छी सलाह भी दी। ये ऐसी सलाह है जो अन्य नेताओं के लिए काम की साबित होगी। आगे पढ़े …



यहाँ बात हो रही है रवि कुमार सिहाग की। उन्होंने प्रश्न किया कि हिंदी मीडियम से की है।

वर्ष 2015 में अपनी स्नातक की पढ़ाई पूरी करने वाले रवि एक साल घर पर ही रहे। हालांकि इस एक साल में उन्हें कई जिम्मेदारियां निभानी थीं। इस दौरान रवि ने बहन की शादी की और फिर अपनी यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी।

२०१६ से २०१ की तक रवि ने यूपीएससी की तैयारी की, फिर २०१ रवि में ही सिविल सेवा की परीक्षा दी और पहली ही बार में ३३ उन्होंने रैंकिंग के साथ उन्होंने यह कर लिया।





अप्सक – फोटो: फाइल फोटो रवि से साक्षात्कार में पूछा गया कि अगर आपका चयन सिविल सेवा के लिए नहीं होता है तो आप क्या करेंगे? इस पर राव का जवाब था कि वह कृषि के क्षेत्र में कुछ करना चाहते हैं। मालूम हो कि उनके पिता किसान हैं।

आईएएस रवि से साक्षात्कार में सरदार पटेल पर भी सवाल पूछे गए। जिसमें से एक सवाल था कि सरदार को बिस्मार्क ऑफ इंडिया क्यों कहते हैं। उनकी मूर्ति गुजरात में कहां है और क्या उस मूर्ति के पास कोई बंधन नहीं है?

रवि से 16 वीं लोकसभा की प्रमुख उपलब्धियां और प्रमुख निराशाजनक बातें भी पूछी गईं।

रवि क्षेत्रीय भाषा में बात करना और नई भाषाओं को सीखना बहुत पसंद है। ऐसे में उनसे इसी तरह एक दिलचस्प सवाल पूछा गया कि अगर उन्हें किसी ऐसी लड़की से प्यार हो जाए जिसकी भाषा और वेशभूषा राव से अलग हो तो वह प्यार और जिम्मेदारी में से क्या चुनेंगे? तब राव ने जवाब दिया कि उसने सबसे पहले बातचीत का विकल्प चुना है।






यूपीएससी सिविल सेवा परिणाम

साक्षात्कार में राव के बाल ठीक तरीके से नहीं बने थे। दोनों कानों की तरफ उनके बाल थोड़े उलझे हुए थे।

अधिकारी ने कहा कि आपके बाल मोर पंख की तरह न बाहर निकलें। आप जेल डालेंगे जिससे यह ठहरे रहें। 

इसके अलावा उन्होंने सलाह दी कि आप एक ई की सहायता लें। 

उन्होंने अपनी बातों पर सफाई पेश करते हुए कहा कि मैंने ऐसा इसलिए किया क्योंकि आपके कमरे में आते ही ध्यान आपके बालों की तरफ जा रहा है। आप तंदुरुस्त इंसान हैं।

मॉक टेस्ट के दौरान अधिकारियों ने कहा कि नर्वस होने की जरूरत नहीं है और अंतिम इंटरव्यू में घबराने की भी जरूरत नहीं है। 

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.