ITR Refund में हो रही है देरी,कहीं आपने ये गलती तो नही कर दी

Share for friends

अब तक नहीं मिला है इनकम टैक्स रिफंड! ऑनलाइन ऐसे चेक करें स्टेटस

आप जब आईटीआर दाखिल करते हैं तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट उसका एसेसमेंट करता है. आपका अगर रिफंड बनता है तो वह सीधे बैंक अकाउंट में क्रेडिट कर दिया जाता है.

★ सीधे रिफंड स्टेटस देखने के लिए यहां क्लिक करें। 

इनकम टैक्स रिटर्न जरूर फाइल करनी चाहिए.  आपको अगर टैक्स रिफंड क्लेम करना है तो इसके लिए आईटीआर दाखिल करना जरूरी है.

आप जब आईटीआर दाखिल करते हैं तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट उसका एसेसमेंट करता है. आपका अगर रिफंड बनता है तो वह सीधे बैंक अकाउंट में क्रेडिट कर दिया जाता है.

  ऐसे पता करें इनकम टैक्स रिफंड का स्टेटस

● इनकम टैक्स रिफंड का स्टेटस दो वेबसाइटों www.incometaxindia.gov.in या www.tin-nsdl.com पर जा कर पता किया जा सकता है.
● इनमें से किसी भी वेबसाइट पर लॉनिग करें और Status of Tax Refunds टैब पर क्लिक करें.

● अपना पैन नंबर और एसेसमेंट ईयर डालें जिस साल के लिए रिफंड पेंडिंग है.

अगर डिपार्टमेंट ने “रिफंड प्रोसेस” कर दिया है तो आपको एक मेसेज मिलेगा मोड ऑफ पेमेंट, रेफरेंस नंबर, स्टेटस और रिफंड की तारीख का जिक्र होगा.

■  इन बातों का रखें ध्यान नहीं तो हो सकती है टैक्स रिफंड (ITR REFUND) में देरी

● टैक्स डिपार्टमेंट के रिफंड में देरी करने या इनकार करने की कई वजह हो सकती हैं.

● करदाता द्वारा आईटीआर फॉर्म में गलत बैंक अकाउंट डीटेल देने पर समस्या आती है.

● आईटीआर भरते बैंक डीटेल सही होनी चाहिए.

बैंक का नाम, अकाउंट नंबर और 11 डिजिट का आईएफसी कोड सही-सही भरा होना चाहिए.

● जो बैंक अकाउंट आप रिफंड पाने के लिए दे रहे हैं, वह ई-फाइलिंग अकाउंट और पैन से जुड़ा हो.

● रिफंड की गणना करते समय हुई गलती भी रिफंड मिलने में देरी या इनकार की एक वजह हो सकती है.

■  सुधारी जा सकती है गलती


● स्टेटस रिपोर्ट से अगर आपको लगता है कि आईटीआर भरते समय आपने बैंक डीटेल में कोई गलती की है तो आप इसे सुधार सकते हैं.

● आपको ई-फाइलिंग पोर्टल www.incometaxindiaefiling.gov.in पर लॉगिन करना होगा.

● इसके बाद My Account पर जाएं और Refund re-issue request पर क्लिक करें

 

Step 4: पैन, रिटर्न का प्रकार, एसेसमेंट ईयर, एकनॉलेजमेंट नंबर, कम्यूनिकेशन रेफरेंस नंबर, रिफंड विफल होने का कारण और रेस्पॉन्स दिखाई देगा.

Step 5: ‘रेस्पॉन्स‘ कॉलम में ‘सब्मिट‘ हाइपरलिंक पर क्लिक करें.

स्टेटस वैलिडेटेड/वैलिडेटेड के साथ सभी प्री-वैलिडेटेड बैंक अकाउंट दिखने लगेंगे. इनेबल किया गया ईवीसी भी दिखाई देगा.

Step 6: उस बैंक अकाउंट को सेलेक्ट करें जिसमें पैसा क्रेडिट कराना है. ‘कंटीन्यू’ पर क्लिक करें. बैंक अकाउंट नंबर, आईएफएससी, बैंक का नाम और अकाउंट का प्रकार जैसे डिटेल दिखेंगे. इन्हें करदाता दोबारा देख सकते हैं.

Step 7: अगर डिटेल सही हैं तो पॉपअप में ‘ओके’ पर क्लिक करें. इसके बाद डायलॉग बॉक्स में ई-वेरिफिकेशन के लिए विकल्प दिखेंगे.

ई-वेरिफिकेशन के उचित मोड को चुनें. अनुरोध को जमा करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक वेरिफिकेशन कोड (EVC)/आधार ओटीपी को जेनरेट और एंटर करें.

Step 8: रिफंड री-इश्यू सब्मिशन की पुष्टि करते हुए ‘सक्सेस’ का मैसेज दिखेगा.

अपने रिफंड री-इश्यू का स्टेटस चेक करने के लिए इन स्टेप को फॉलो करें.

Step 1: ई-फाइलिंग पोर्टल www.incometaxindiaefiling.gov.in पर लॉग-इन करें.

Step 2: ‘माई अकाउंट‘ पर जाएं. फिर ‘सर्विस रिक्वेस्ट‘ को सेलेक्ट करें. इसके बाद व्यू रिक्वेस्ट’ के तौर पर ‘रिक्वेस्ट टाइप’ को चुनें. फिर ‘रिफंड री-इश्यू‘ के तौर पर ‘रिक्वेस्ट कैटेगरी’ पर क्लिक करें.

Step 3: ‘सब्मिट‘ पर क्लिक करें.

ITR Refund में हो रही है देरी,कहीं आपने ये गलती तो नही कर दी

One thought on “ITR Refund में हो रही है देरी,कहीं आपने ये गलती तो नही कर दी

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top