World Turtle Day: 20 साल से कैद था कछुआ, छूटते ही बच्चों के लिए तय किया 37000 KM का सफर

कछुआ समुद्र में रहने वाला एक शानदार जीव है। आमतौर पर शांत से दिखने वाले कछुए के शिकार में पिछले कई सालों से तेजी देखी जा रही है। कछुओं के संरक्षण के बारे में लोगों को जागरुक करने के लिए हर साल 23 मई को विश्व कछुआ दिवस (World Turtle Day) मनाया जाता है। हर साल इस दिवस की थीम अलग रहती है। आमतौर पर इस दिन जीव प्रेमी हरे रंग के कपड़े पहनते हैं। पहली बार विश्व कछुआ दिवस 2000 में मनाया गया था, तब से आज तक ये सिलसिला जारी है। हाल ही में एक कछुए ने समुद्र में 37 हजार किलोमीटर का सफर तय किया था, जिसकी कहानी लोगों के लिए प्रेरणादायक है।

Tortle

IFS ने शेयर की कछुए की कहानी

World Turtle Day पर इंडियन फॉरेस्ट सर्विस के अधिकारी प्रवीण कासवान ने कछुए की एक अनोखी कहानी शेयर की है। जिन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि एक कछुए की अपने घर जाने की अद्भुत यात्रा। उन्होंने बताया कि योशी नाम के कछुए ने मार्च में अपने बच्चों को जन्म देने और उनके पालन पोषण के लिए जगह की तलाश करते हुए 37 हजार किलोमीटर की यात्रा की। उसकी ये यात्रा अफ्रीका से ऑस्ट्रेलिया तक की थी। उन्होंने कहा कि हमें ये देखने की जरूरत है कि आखिर क्यों ये जानवर इतनी लंबी यात्रा करते हैं।

twitter

एक रिपोर्ट के मुताबिक योशी नाम के मादा कछुए को घायल हालत में पाया गया था। जिसके बाद जीव प्रेमियों ने उसका इलाज करवाया और स्वस्थ होने तक उसकी निगरानी की। इसी बीच उसके शरीर पर सैटलाइट टैग लगा दिया गया, ताकी उसकी प्रजाति के बारे में और जानकारी हासिल की जा सके। 20 साल की कैद के बाद आखिरकार उसे रिहा कर दिया गया। जिसके बाद उसने अपने घर की तलाश शुरू की। फिर अपनी मंजिल की तलाश में वो चलती गई और आधी दुनिया का चक्कर लगा लिया। 37 हजार किलोमीटर के सफर की कहानी को सुनकर लोगों के होश उड़ गए।

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.