विकोडक August 2, 2020

मिशन प्रेरणा  उत्तर प्रदेश सरकार का एक प्रमुख कार्यक्रम है जिसके माध्यम से बेसिक शिक्षा विभाग के अंतर्गत 1.6 लाख स्कूलों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने का प्रयास है और इसके प्रारंभ बुनियादी शिक्षण कौशल पर विशेष ध्यान देने के साथ शुरु किया गया है।

                            मिशन प्रेरणा के तहत 75 जिलों में 1.1 लाख से अधिक विद्यालय, साढ़े तीन लाख से अधिक शिक्षक और 1.2 करोड़ छात्र आच्छादित होंगे। इसमें जिलाधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका होगी और इसका फोकस बुनियादी शिक्षा पर होगा। इसके परिणाम अगले ढाई वर्षों में मिलेंगे।
Join us

Telegram


मिशन प्रेरणा के लक्ष्य स्पष्ट होंगे, जिसमें प्रशासनिक और शैक्षिक जवाबदेही शामिल होगी। विद्यार्थियों को अच्छी बेसिक शिक्षा उपलब्ध कराने पर प्रेरक ब्लॉक, प्रेरक जिला जैसी घोषणाएं की जाएंगी।
 

 

जिसमें सभी स्कूलों के 80 प्रतिशत बच्चे और प्रत्येक विकास खंड द्वारा फौउंडेशनल लर्निंग गोल्स प्राप्त करते हुए विकास खंड, जनपद और विद्यालय को प्रेरित करने का लक्ष्य प्राप्त किया जाता है।

 

बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा विकसित तीन हस्तकला पुस्तकों के आधार शिला , ध्यानाकर्षण और व शिक्षण संग्रह के माध्यम से लक्ष्य हासिल करना। इसकी साफ्ट कापी सभी शैक्षणिक समूह में भेजी गई है। इससे संबंधित प्रेरणा प्राप्त करने, तालिका व प्रेरणा सूची की साफ्ट कापी सभी शिक्षकों के उपयोग के लिए ब्लाक से सभी शैक्षणिक वाट्सएप ग्रुपों में भेजी गई है।

 

मिशन प्रेरणा के लिए सबसे महत्वपूर्ण निम्नलिखित तीन अभिलेखों को समझ लें –
1) प्रेरणा सूची- प्रेरणा सूची में ग्रेड 01 से ग्रेड 05 के लिए निर्धारित फाउंडेशन लर्निंग (बुनियादी शिक्षा) के गोल्स। सभी शिक्षक इन 14-17 सीखने के परिणामों को समझने के लिए (संलग्न -1)

 

2) प्रेरणा लक्ष्य- इन 10 बिंदुओं के आधार पर थर्ड पार्टी एसेमेंट एजेंसी द्वारा ब्लॉक में कम से कम 20 स्कूलों का रैंडम आधार पर चयन कर उन स्कूलों में प्रत्येक बच्चे का मूल्यांकन करके, ब्लाक को प्रेरित कििया जाएगा। (संलग्न 02)

 

3) प्रेरणा तालिका– इसको प्रत्येक स्कूल के ग्रेड 1 से 5 के दीवालों में चस्पा किया जाना है, और हर 3 महीने में प्रिंसिपल और एआरपी द्वारा मूल्यांकन किया जाएगा की सभी छात्रों ने निर्धारित लक्ष्यों को हासिल किया है या नहीं।
इसके लिए भविष्य निर्देश शासन से जारी हो रहे हैं, लेकिन इसको सभी लोग ध्यान से पढ़ेंगे, सभी को कंठस्थ हो जाना चाहिए। यह हमारे लिए सर्वोच्च प्राथमिकता के दस्तावेज हैं, इसको सभी  विशेषकर शिक्षकों और एआरपी को उपलब्ध कराने को सुनिश्चित करें।


इसके लिए भविष्य निर्देश शासन से जारी हो रहे हैं, लेकिन इसको सभी लोग ध्यान से पढ़ेंगे, सभी को कंठस्थ हो जाना चाहिए। यह हमारे लिए सर्वोच्च प्राथमिकता के दस्तावेज हैं, इसको सभी  विशेषकर शिक्षकों और एआरपी को उपलब्ध कराने को सुनिश्चित करें।

 

 

 

मिशन प्रेरणा अंतर्गत बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा विकसित महत्वपूर्ण हस्त पुस्तिकाएं ध्यानाकर्षण, आधारशिला, शिक्षण संग्रह और प्रेरणा तालिका, लक्ष्य और सूची करें एक क्लिक में डाउनलोड

… और अधिक जानने के लिए क्लिक करें! 

 

1. ध्यानाकर्षण

 

  2. आधारशिला

 

   3. शिक्षण संग्रह

 

 

आप यहां से नि: शुल्क डाउनलोड कर सकते हैं।

 

 

मिशन प्रेरणा में खास
मिशन प्रेरणा के तहत 75 जिलों में 1.1 लाख से अधिक विद्यालय, साढ़े तीन लाख से अधिक शिक्षक और 1.2 करोड़ छात्र आच्छादित होंगे। इसमें जिलाधिकारियों की महत्वपूर्ण भूमिका होगी और इसका फोकस बुनियादी शिक्षा पर होगा। इसके परिणाम अगले ढाई वर्षों में मिलेंगे।

मिशन प्रेरणा के लक्ष्य स्पष्ट होंगे, जिसमें प्रशासनिक और शैक्षिक जवाबदेही शामिल होगी। विद्यार्थियों को अच्छी बेसिक शिक्षा उपलब्ध कराने पर प्रेरक ब्लॉक, प्रेरक जिला जैसी घोषणाएं की जाएंगी। 


विभागीय सूची[Important websites]

 

 

 

 

 

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.