नवनियुक्त 31277 शिक्षकों को स्कूलों में तैनाती 30 सितम्बर 2019 की छात्र संख्या के मुताबिक,इस तरह होगी तैनाती

Share for friends

31277 भर्ती में आनलाइन के अलावा किसी अन्य तरीके से नहीं होगी तैनाती



नवनियुक्त 31277 शिक्षकों को स्कूलों में तैनाती 30 सितम्बर 2019 की छात्र संख्या के मुताबिक दी जाएगी। इसमें पहली वरीयता महिला व विकलांगों को दी जाएगी।

ऑनलाइन के अलावा अन्य किसी भी तरीके से पदस्थापन नहीं किया जाएगा। बेसिक शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद ने बेसिक शिक्षा अधिकारियों के साथ ऑनलाइन बैठक कर निर्देश दिए हैं।

31277 अभ्यर्थियों को 30 अक्टूबर तक तैनाती दी जानी है।उन्होंने चेतावनी दी कि कई जिलों से अपात्र अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देने की शिकायतें आई हैं। स्कूलों में तैनाती से पहले इनका परीक्षण कर लिया जाए।

किसी भी दशा में अपात्र अभ्यर्थियों को तैनाती न दी जाए। यदि अपात्र अभ्यर्थियों को तैनाती दी गई तो किसी भी दशा में अधिकारियों का बख्शा नहीं जाएगा।

उन्होंने कहा कि कई जिलों में दलाल सक्रिय हो गए हैं और पैसा लेकर तैनाती देने का प्रलोभन देकर अभ्यर्थियों को फंसा रहे हैं। इस तरह की शिकायतों का संज्ञान लिया जाए।

उन्होंने स्पष्ट किया कि केवल ऑनलाइन प्रक्रिया से ही पदास्थापन किया जाएगा। यदि किसी अभ्यर्थी द्वारा बाहरी प्रभाव का प्रयोग करना संज्ञान में आता है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी

इस तरह होगी तैनाती

Deled online classes


प्रेरणा पोर्टल पर ऑनलाइन तैनाती का सॉफ्टवेयर है, यहीं से तैनाती की कार्रवाई की जाएगी।


● सबसे पहले मेरिट के मुताबिक अभ्यर्थियों की सूची तैयार होगी।
● पदास्थापन के लिए स्कूलवार रिक्तियों की सूची चस्पा की जाएगी और जहां अभ्यर्थी बैठेंगे वहां प्रोजेक्टर पर प्रदर्शित की जाएगी।
● दिव्यांग व महिला अध्यापकों से पहले विकल्प लिए जाएंगे, इसके बाद पुरुष अध्यापकों से विकल्प लिए जाएंगे
● विकल्प लॉक करने के बाद रिक्ति की संख्या तुरंत कम की जाएगी, तैनाती का आदेश तुंरत अभ्यर्थी को दिया जाएगा
3 नवम्बर तक नवनियुक्त शिक्षकों को स्कूलों में कार्यभार ग्रहण करना है

TELEGRAM

महानिदेशक बेसिक शिक्षा ने दी चेतावनी-कहा कि पैसा लेकर तैनाती देने की खबरें आईं तो होगी कार्रवाई

नवनियुक्त 31277 शिक्षकों को स्कूलों में तैनाती 30 सितम्बर 2019 की छात्र संख्या के मुताबिक,इस तरह होगी तैनाती

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top