Supreme Court(सुप्रीम कोर्ट) ने कहा, रिटायर कर्मचारियों के लिए पेंशन जरूरी

Spread the love

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के मुताबिक,  रिटायर कर्मचारी की गरिमा कायम रखने के लिए पेंशन बहुत जरूरी है।

        यह इच्छा के आधार पर दी गई कोई राशि नहीं है, बल्कि सामाजिक कल्याण का कदम है और संकट की घड़ी में यानी कोरोना काल में बेहद जरूरी मदद है। इसलिए इसे देने से इनकार नहीं किया जा सकता।

                पीटीआई के मुताबिक,  पेंशन सेवानिवृत्ति के बाद की अवधि के लिए सहायता है न कि इच्छा होने पर कोई कृपा। यह कर्मचारी के लिए सेवानिवृत्ति के बाद सम्मान बनाए रखने के अधिकार के तौर पर किया गया एक सामाजिक कल्याण उपाय ( Social Welfare Measure) है।

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने रिटायरमेंट पेंशन को सभी रिटायर सरकारी कर्मचारियों के लिए सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार माना है।

Supreme court
Supreme court

केरल के एक रिटायर कर्मचारी की पेंशन में हो रही सभी दिक्कतों को दूर करते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court)ने बुधवार को कहा कि पेंशन सुविधा सरकारी कर्मचारी को ढलती उम्र में सम्मान के साथ जीने के लिए है और इसलिए किसी कर्मचारी को इस लाभ से बिना किसी कारण वंचित नहीं किया जा सकता।

जस्टिस एसके कौल (Justices S K Kaul), जस्टिस अजय रस्तोगी और जस्टिस अनिरुद्ध बोस की पीठ ने केरल सरकार से अपने हक का दावा करने वाले एक रिटायर कर्मचारी को राहत देते हुए राज्य सरकार को उसे अस्थायी कर्मचारी के तौर पर देखते हुए उसके 32 साल के कार्यकाल के आधार पर पेंशन लाभ देने का आदेश दिया। कर्मचारी 32 सालों तक सरकारी विभाग के साथ काम करने के बावजूद पिछले 13 सालों से अपने हक के लिए दफ्तरों का चक्कर लगा रहा था।

केरल के एक सेवानिवृत्त कर्मचारी की पेंशन में विसंगति दूर करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा, पेंशन सुविधा सरकारी कर्मचारी को ढलती उम्र में सम्मान के साथ जीने के लिए है और इसलिए किसी कर्मचारी को इस लाभ से अकारण वंचित नहीं किया जा सकता।
शीर्ष अदालत ने कहा कि इसमें किसी भी नियम आदि का बहाना नहीं बनाया जाना चाहिए।

कर्मचारी का पक्ष लेते हुए जस्टिस एसके कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने केरल सरकार को पेंशन लाभ का निर्धारण करने में अनुबंधित कामगार के रूप में दी गई उसकी सेवा अवधि को भी शामिल करने का आदेश दिया।

कर्मचारी ने दावा किया था कि सरकारी विभाग में 32 साल तक काम करने के बावजूद उसे अंतिम 13 साल के लिए ही पात्र माना गया है। सुनवाई कर रही पीठ में जस्टिस अजय रस्तोगी और जस्टिस अनुरुद्ध बोस भी शामिल थे। पीठ ने ब्याज के साथ पेंशन का बकाया आठ सप्ताह में भुगतान करने का आदेश दिया है।


Spread the love

Comments

  1. Pingback: Teacher Day:जानिये शिक्षक दिवस का इतिहास,इससे जुड़ी रोचक बातें -

  2. Pingback: 31277 शिक्षक भर्ती:कार्यभार ग्रहण आदेश जारी,बीएसए ने किया विद्यालय(School) आवंटन -

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.