परिषदीय विद्यालयों मे नवीन अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण समयसारिणी जारी,30 दिसम्बर को जारी होगी नयी सूची

 माननीय उच्च न्यायालय में योजित याचिका संख्या-878/2020 श्रीमती दिव्या गोस्वामी बनाम उ0प्र0 राज्य व अन्य में पारित आदेश दिनांक 03.11.2020 एवं 03.12.2020 के अनुपालन में

बेसिक शिक्षा : कोर्ट के आदेश के बाद शिक्षिकाओं को अन्तर्जनपदीय तबादले के लिए मिला दूसरा अवसर, 18 दिसंबर कर सकेंगी ऑनलाइन आवेदन, 30 दिसम्बर को होगा सूची का प्रकाशन

परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत अध्यापकों हेतु अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण की कार्यवाही की जा रही है।

• महिला अध्यापिका जिनके द्वारा विवाह पूर्व स्थानान्तरण का लाभ लिया गया है तथा असाध्य रोग से ग्रसित अध्यापक/अध्यापिकाओं जिनके द्वारा ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत नहीं किया गया है से पुनः आवेदन पत्र प्राप्त किया जायेगा।

अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण प्रकियायूपी में बड़े स्तर पर ट्रांसफर की तैयारी, 72 हजार शिक्षकों के हो सकते हैं तबादले

  • सरकारी प्राइमरी स्कूलों में 72 हजार से ज्यादा ऐसे शिक्षक हैं, जो सरप्लस हैं। सरप्लस यानी कि वहां तैनात हैं, जहां उनकी जरूरत ही नहीं।

शिक्षा का अधिकार कानून लागू हुए नौ साल से ऊपर हो गया लेकिन अब भी आरटीई के मानकों के मुताबिक शिक्षकों की तैनाती स्कूलवार नहीं हो पाई है।

अब बेसिक शिक्षा विभाग इन सरप्लस शिक्षकों को पहले अंतरजनपदीय तबादले और इसके बाद जिलों में तबादलों व समायोजन के जरिए मानकों के मुताबिक तैनाती करने की मशक्कत कर रहा है।

 

इसमें ऑनलाइन व्यवस्था मददगार साबित हो सकती है क्योंकि विभाग में सरप्लस शिक्षकों का मुद्दा नया नहीं है। केंद्र सरकार ने यूपी के सरकारी स्कूलों में तैनात 72,353 शिक्षकों को सरप्लस बताते हुए कहा है कि इनकी तैनाती नियमों के मुताबिक की जाए।

आरटीई के मानकों के मुताबिक कक्षा एक से 5 तक 30 बच्चों पर एक शिक्षक का नियम है। वहीं जूनियर स्कूलों में 35 बच्चों पर एक शिक्षक का नियम बनाया गया है, लेकिन प्रदेश में कई स्कूल ऐसे हैं, जहां शिक्षक तो 6-7 तैनात हैं लेकिन बच्चे 100 से ज्यादा नहीं है।

ज्यादातर शहरी स्कूलों और शहर से सटे ग्रामीण स्कूलों में शिक्षकों की संख्या ज्यादा है। जब प्रदेश में आरटीई लागू हुआ तो स्कूलों में नामांकन का खेल चलने लगा।

एक ही बच्चा आसपास के सभी स्कूलों में पंजीकृत किया जाने लगा। इससे निपटने के लिए सरकार ने नामांकित बच्चों की जगह मिड डे मील खाने वाले बच्चों की संख्या के मुताबिक तैनाती का नियम बनाया लेकिन अनुपात सही करने में विभाग असफल रहा है।

इससे पहले भी सरप्लस शिक्षकों का मुद्दा उठता रहा है लेकिन विभाग लाख कोशिशों के बाद भी इसे सही नहीं कर पा रहा है

              क्योंकि भर्तियों के समय बागपत का अभ्यर्थी भी श्रावस्ती में नियुक्ति ले लेता है लेकिन तीन साल बाद जोर-जुगाड़ के सहारे वह अपने जिले में तबादला लेकर पहुंच जाता है। इसके चलते हमेशा असंतुलन की स्थिति बनी रहती है।

अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण प्रकिया मे निम्नलिखित समय सारिणी के अनुरूप वेबसाइट upbasiceduparishad.gov.in पर सम्पादित की जायेगी।

माननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश के क्रम में ऑनलाइन आवेदन पत्र /रजिस्ट्रेशन आवेदन

कार्यवाही का विवरण दिनांक

आनलाइन आवेदन/Bsa office पर सबमिट करना

18/12/2020. से

21/12/2020

जनपद स्तर पर काउंसलिंग/

आनलाइन सत्यापन

22/12/2020 से 24/12/2020
बी०एस०ए० द्वारा काउन्सिलिंग के उपरान्त डाटा लॉक किया जाना

26/12/2020

 

सूची का प्रकाशन : 30/12/2020

Follow us  Twitter

                 Telegram

अंतर्जनपदीय स्थानांतरण हेतु साइट अपडेट हो गयी है आवेदन अपूर्ण वाले/प्रत्यावेदन अभ्यर्थी आवेदन पत्र संशोधित करें

transfer fraud

आवेदन पत्र संशोधन


Click here

Official website ➡️ Click here

आवेदन पत्र संशोधन 3 october 2020 तक किए जा सकेगें।
  1. आवेदन पत्र अन्तिम रुप से OTP के माध्यम से Submit किया जाएगा ।
  2. संशोधन उपरांत SUBMIT करना न भूलें।
  3. यदि किसी शिक्षक ने ऑनलाइन आवेदन दो चरणों में किया है यानी पहले चरण में रजिस्ट्रेशन व दूसरे चरण में आवेदन हुआ तो दूसरे चरण में की गई प्रविष्टियों के बदलाव होगें। रजिस्ट्रेशन के पत्र में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा।

अंतर्जनपदीय तबादला :

तबादला आवेदन मेडिकल रिपोर्ट अस्वीकार होने पर निरस्त नहीं, जिलों में गठित समिति को शिक्षक दे सकेंगे दावे और आपत्ति, 24 से 28 सितंबर तक होगा निस्तारण

बेसिक शिक्षा परिषद के शिक्षकों का अंतर जिला तबादला आदेश 15 अक्टूबर को जारी होगा। परिषद ने शिक्षकों को इस बार तमाम सहूलियत दी हैं। सामान्य स्थिति में अब उनका आवेदन निरस्त नहीं होगा।

परिषद सचिव प्रताप सिंह बघेल ने सभी जिलों को निर्देश जारी कर दिया है। शिक्षक की जांच में यदि उनकी मेडिकल रिपोर्ट अस्वीकार हो जाती है तो भी उनका आवेदन निरस्त नहीं होगा, बल्कि उसे रिसेट किया जाएगा। बीएसए बैठक की सूचना शिक्षकों को भी देंगे, ताकि उनके उपस्थित होने का मौका मिले। 

अन्तर्जनपदीय तबादलाआवेदन में कर सकेंगे बदलाव


वेबसाइट पर हुए आवेदन में शिक्षक बदलाव भी कर सकते हैं। शिक्षकों के दावे व आपत्तियों के लिए निस्तारण के लिए हर जिले में डायट प्राचार्य की अध्यक्षता में समिति बनी है। मंडलीय सहायक शिक्षा निदेशक बेसिक व बीएसए सदस्य होंगे। एडी बेसिक मंडल के सभी जिलों के लिए समय सारिणी तय करेगा।


अन्तर्जनपदीय तबादला प्रत्यावेदन

शिक्षकों के प्रत्यावेदन, आपत्ति आदि पंजिका में दर्ज होंगे। यह कार्य जिले के वरिष्ठ बीईओ करेंगे, शिक्षक को प्राप्ति रसीद मिलेगी। समिति से निस्तारण की सूचना परिषद को भेजी जाएगी।
यदि शिक्षक की ओर से दावा किया जाता है कि उसने तबादला आवेदन में गलती से दिव्यांग, गंभीर बीमार, पति पत्नी दोनों सरकारी सेवा में हैं आदि का त्रुटिवश विकल्प चुना है तो उस विकल्प को हटाकर ऐसे आवेदन रिसेट किया जाएगा।

इसे फिर से ओटीपी के माध्यम से सबमिट किया जाएगा। यदि बीएसए ने किसी शिक्षक के आवेदन को गलती से असत्यापित या निरस्त कर दिया है ता ऐसे प्रकरणों को समिति के समक्ष प्रस्तुत करके अनुमान लेकर कार्रवाई की जाएगी।

यदि किसी शिक्षक ने ऑनलाइन आवेदन दो चरणों में किया है यानी पहले चरण में रजिस्ट्रेशन व दूसरे चरण में आवेदन हुआ तो दूसरे चरण में की गई प्रविष्टियों के बदलाव पर समिति विचार करेगी। रजिस्ट्रेशन के पत्र में किसी तरह का बदलाव नहीं होगा। समिति के निर्णय की कार्यवाही समय सारिणी के अनुसार वेबसाइट पर प्रदर्शित की जाएगी।

परिषदीय शिक्षकों के अन्तर्जनपदीय स्थानांतरण 2020,interdistrict transfer latest news,Check your transfer staus

basic education department के अध्यापकों को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को बड़ी राहत दी है।

JHANSI(झांसी) : स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने से पूर्व उसी पद अथवा पदानवत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अद्यतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध में।

बाराबंकी

: स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने से पूर्व उसी पद अथवा पदानवत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अद्यतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध में

जालौन

:- अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण 2019 -20 के फलस्वरूप अध्यापकों को स्थानान्तरित जनपद में कार्यमुक्त किये जाने सेपूर्व उसी पद अथवा पदावनत किये जाने के सम्बन्ध में जनपदों में अघतन तक की गयी पदोन्नति की दिनांक की जानकारी के सम्बन्ध मे

⇒सीएम ने अंतर्जनपदीय तबादलों पर लगी रोक हटा दी है।अब टीचरों के एक जिले से दूसरे जिले में ट्रांसफर हो सकेंगे।
इस बार यह तबादले ऑनलाइन होने हैं, लॉकडाउन के चलते यह प्रक्रिया रोक दी गई थी।

→basic education department के एक लाख से अधिक शिक्षकों ने ट्रांसफर के लिए आवेदन किए थे, इनमें से 45000 अध्यापकों के ट्रांसफर होंगे।
बताया जा रहा है कि सीएम के इस आदेश के बाद महिला शिक्षकों, दिव्यांगों गंभीर रूप से बीमार शिक्षकों को वरीयता दी जाएगी। https://twitter.com/CMOfficeUP/status/1307587794605281280?s=19

  1. बता दें कि योगी सरकार ने लॉकडाउन से पहले शिक्षकों की ट्रांसफर पॉलिसी में बदलाव किया था।
  2. नई पॉलिसी के मुताबिक बेसिक शिक्षा विभाग(basic education department) में शिक्षकों के ट्रांसफर के लिए 5 साल की समय सीमा को घटाकर 3 साल कर दिया गया था।
  3. सरकार ने महिलाओं को बड़ी राहत दी थी। उनके लिए तबादले की समय सीमा को सिर्फ 1 साल किया गया था।
  4. सरकार ने फौजियों की पत्नी को ट्रांसफर में प्राथमिकता देना निश्चित किया था। इसके अलावा गंभीर रूप से पीड़ित शिक्षकों को भी तबादले में सुविधा देने की बात कही था।


ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से प्राप्त आवेदनों के आधार पर बेसिक शिक्षा विभाग के(Basic education department) 28,306 शिक्षिकाओं तथा 25,814 शिक्षकों, कुल 54,120 शिक्षकों का स्थानांतरण किया गया है।
मुख्यमंत्री जी के निर्देश पर स्थानांतरण प्रक्रिया में विशेष प्राथमिकता के आधार पर

  • असाध्य/गंभीर रोगों से ग्रसित 2,186,
  • दिव्यांग श्रेणी के 2,285
  • सैन्य सेवाओं से जुड़े 917 शिक्षक/शिक्षिकाओं

    का स्थानांतरण किया गया है।

Check transfer status

Click here

स्थानांतरण अपडेट (transfer status)

⭕कुल आवेदन = 70838
⭕निरस्त = 16000 से अधिक(20फरवरी तक)
⭕ शेष = 54123
⭕45000 जनरल + 9000 म्यूच्यूअल ट्रांसफर

Read more