Tet 2019 official answer sheet paper 1

Primary level

उत्तर प्रदेश टीचर्स एलिजिबिलिटी टेस्टकी आंसर की आज जारी कर दी है। आंसर की आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जारी की गई है। बोर्ड ने कैंडिडेट्स को प्रोविजनल आंसरी की जारी कर दी है। यूपीटेट का एग्जाम 8 जनवरी 2020 को शिफ्ट में हुआ था। आंसर की जारी होने के बाद कैंडिडेtस को लगता है कि इसमें किसी करेक्शन की जरूरत है तो वह वेलिड प्रूफ के साथ 17 जनवरी 2020 तक अपनी आपत्ति दर्ज करा सकते हैं। यूपीटेट आंसरी की से जुड़े किसी भी नोटिफिकेशन के लिए आधिकारिक वेबसाइट जरूर चेक करें।



आसंर की चेक करने के लिए सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर जाएं। वेबसाइट के होम पेज पर ही आपको UPTET answer keys का लिंक दिखाई देगा। उस पर क्लिक करें। क्लिक करने के बाद नया पेज खुल जाएगा अब आपको अपना रजिस्ट्रेशन नंबर, पासवर्ड और कैप्चा डालकर लॉगिन कर लेना है। अब आप UPTET 2019 आंसर की डाउनलोड कर पाएंगे। कैंडिडेट्स को सलाह है कि वह आंसर की पीडीएफ फाइल अपने पास सेव कर लें।

Set A

प्रूफ के लिए करना होगा ये काम

helpline uptet

अभ्यर्थी ऑनलाइन आपत्ति करते समय साक्ष्य या अभिलेख वेबसाइट पर अपलोड नहीं करेंगे, बल्कि साक्ष्य के रूप में किताब का जिक्र प्रश्न के सामने विकल्प पर अंकित कर सकते हैं।


      कैसे करें आपत्ति दर्ज 

इसके बाद 28 जनवरी तक प्राप्त आपत्ति पर विषय विशेषज्ञों का गठन करके उसका निराकरण 28 जनवरी 2020 तक


इसलिए अपने ही अकाउंट से करें फीस पेमेंट,अगर आवेदक की आपत्ति सही पाई जाती है तो पैसे रिफंड कर दिए जाएंगे। यह पैसे उसी अकाउंट में रिफंड होंगे जिस अकाउंट से भुगतान किया गया होगा। इसलिए आपत्ति दर्ज कराने की फीस के लिए अपने अकाउंट का ही उपयोग करें।  फीस केवल ऑनलाइन ही जमा होगी


आवेदक को प्रति आपत्ति 500 रुपए का भुगतान करना होगा। आपत्ति शुल्क जमा नहीं करने पर आपत्ति स्वीकार नहीं की जाएगी। बता दें कि आपत्ति शुल्क केवल ऑफलाइन माधमम से ही जमा करवाया जा सकता है।

रिजल्ट घोषित होने के एक महीने के भीतर अभ्यर्थियों को प्रमाणपत्र दे दिया जाएगा। बता दें कि इस परीक्षा का आयोजन दो शिफ्ट में किया गया था। पहली शिफ्ट में कक्षा 1 से 5 तक पढ़ाने वाले आवेदकों का पेपर लिया गया था।

UPTET उत्तर कुंजी 2019 लाइव अपडेट: 7 फरवरी को जारी रिजल्ट होगा

सेट बी

सेट सी

सेट डी

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.