परिषदीय विद्यालयों मे नवीन अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण समयसारिणी जारी,30 दिसम्बर को जारी होगी नयी सूची

Spread the love

 माननीय उच्च न्यायालय में योजित याचिका संख्या-878/2020 श्रीमती दिव्या गोस्वामी बनाम उ0प्र0 राज्य व अन्य में पारित आदेश दिनांक 03.11.2020 एवं 03.12.2020 के अनुपालन में

बेसिक शिक्षा : कोर्ट के आदेश के बाद शिक्षिकाओं को अन्तर्जनपदीय तबादले के लिए मिला दूसरा अवसर, 18 दिसंबर कर सकेंगी ऑनलाइन आवेदन, 30 दिसम्बर को होगा सूची का प्रकाशन

परिषदीय विद्यालयों में कार्यरत अध्यापकों हेतु अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण की कार्यवाही की जा रही है।

• महिला अध्यापिका जिनके द्वारा विवाह पूर्व स्थानान्तरण का लाभ लिया गया है तथा असाध्य रोग से ग्रसित अध्यापक/अध्यापिकाओं जिनके द्वारा ऑनलाइन आवेदन प्रस्तुत नहीं किया गया है से पुनः आवेदन पत्र प्राप्त किया जायेगा।

अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण प्रकियायूपी में बड़े स्तर पर ट्रांसफर की तैयारी, 72 हजार शिक्षकों के हो सकते हैं तबादले

  • सरकारी प्राइमरी स्कूलों में 72 हजार से ज्यादा ऐसे शिक्षक हैं, जो सरप्लस हैं। सरप्लस यानी कि वहां तैनात हैं, जहां उनकी जरूरत ही नहीं।

शिक्षा का अधिकार कानून लागू हुए नौ साल से ऊपर हो गया लेकिन अब भी आरटीई के मानकों के मुताबिक शिक्षकों की तैनाती स्कूलवार नहीं हो पाई है।

अब बेसिक शिक्षा विभाग इन सरप्लस शिक्षकों को पहले अंतरजनपदीय तबादले और इसके बाद जिलों में तबादलों व समायोजन के जरिए मानकों के मुताबिक तैनाती करने की मशक्कत कर रहा है।

 

इसमें ऑनलाइन व्यवस्था मददगार साबित हो सकती है क्योंकि विभाग में सरप्लस शिक्षकों का मुद्दा नया नहीं है। केंद्र सरकार ने यूपी के सरकारी स्कूलों में तैनात 72,353 शिक्षकों को सरप्लस बताते हुए कहा है कि इनकी तैनाती नियमों के मुताबिक की जाए।

आरटीई के मानकों के मुताबिक कक्षा एक से 5 तक 30 बच्चों पर एक शिक्षक का नियम है। वहीं जूनियर स्कूलों में 35 बच्चों पर एक शिक्षक का नियम बनाया गया है, लेकिन प्रदेश में कई स्कूल ऐसे हैं, जहां शिक्षक तो 6-7 तैनात हैं लेकिन बच्चे 100 से ज्यादा नहीं है।

ज्यादातर शहरी स्कूलों और शहर से सटे ग्रामीण स्कूलों में शिक्षकों की संख्या ज्यादा है। जब प्रदेश में आरटीई लागू हुआ तो स्कूलों में नामांकन का खेल चलने लगा।

एक ही बच्चा आसपास के सभी स्कूलों में पंजीकृत किया जाने लगा। इससे निपटने के लिए सरकार ने नामांकित बच्चों की जगह मिड डे मील खाने वाले बच्चों की संख्या के मुताबिक तैनाती का नियम बनाया लेकिन अनुपात सही करने में विभाग असफल रहा है।

इससे पहले भी सरप्लस शिक्षकों का मुद्दा उठता रहा है लेकिन विभाग लाख कोशिशों के बाद भी इसे सही नहीं कर पा रहा है

              क्योंकि भर्तियों के समय बागपत का अभ्यर्थी भी श्रावस्ती में नियुक्ति ले लेता है लेकिन तीन साल बाद जोर-जुगाड़ के सहारे वह अपने जिले में तबादला लेकर पहुंच जाता है। इसके चलते हमेशा असंतुलन की स्थिति बनी रहती है।

अन्तर्जनपदीय स्थानान्तरण प्रकिया मे निम्नलिखित समय सारिणी के अनुरूप वेबसाइट upbasiceduparishad.gov.in पर सम्पादित की जायेगी।

माननीय उच्च न्यायालय द्वारा पारित आदेश के क्रम में ऑनलाइन आवेदन पत्र /रजिस्ट्रेशन आवेदन

कार्यवाही का विवरण दिनांक

आनलाइन आवेदन/Bsa office पर सबमिट करना

18/12/2020. से

21/12/2020

जनपद स्तर पर काउंसलिंग/

आनलाइन सत्यापन

22/12/2020 से 24/12/2020
बी०एस०ए० द्वारा काउन्सिलिंग के उपरान्त डाटा लॉक किया जाना

26/12/2020

 

सूची का प्रकाशन : 30/12/2020

Follow us  Twitter

                 Telegram


Spread the love

Comments

  1. Pingback: शिक्षकों का अंतरजनपदीय तबादला तीन नहीं पांच साल में होगा तक की जाएगी। transfer -

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.