WhatsApp New Privacy Policy Update : पॉलिसी है ‘ख़तरे की घंटी’, भारत में कोई क़ानून नहीं

Share for friends

WhatsApp New Policy:

नई पॉलिसी में क्या है?

नई पॉलिसी में फेसबुक और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा है और अब यूजर्स का पहले से ज्यादा डेटा फेसबुक के पास होगा.
  • वॉट्सऐप का डेटा पहले भी फेसबुक के साथ शेयर किया जा रहा था. लेकिन कंपनी ने साफ कर दिया है कि फेसबुक के साथ वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम का इंटीग्रेशन ज्यादा रहेगा.
  • वॉट्सऐप की अपडेटेड पॉलिसी में आपके द्वारा कंपनी को दिए जा रहे लाइसेंस में कुछ बातें निजता के हनन करती हैं।

क्या है इस नई पॉलिसी का मतलब?

नई पॉलिसी का मतलब है कि Whatsapp के पास आपका जितना भी डेटा है, वह अब फेसबुक की दूसरी कंपनियों के साथ भी शेयर किया जाएगा। इस डेटा में
  1. लोकेशन की जानकारी
  2. Transactions And Payments Data
  3. Customer Support And Other Communications.
  4. IP एड्रेस
  5. टाइम जोन
  6. फोन मॉडल
  7. ऑपरेटिंग सिस्टम
  8. बैटरी लेवल
  9. सिग्नल स्ट्रेन्थ
  10. ब्राउजर,
  11. मोबाइल नेटवर्क
  12. ISP भाषा
  13. टाइम जोन
  14. IMEI नंबर शामिल हैं।
  15. इतना ही नहीं, आप किस तरह मैसेज या कॉल करते हैं, किन ग्रुप्स में जुड़े हैं,
  16. आपका स्टेटस, प्रोफाइल फोटो, और लास्ट सीन तक शेयर किया जाएगा।
कंपनी का कहना है कि इस डेटा का उपयोग विश्लेषण संबंधी उद्देश्य के लिए किया जाएगा। इसका मतलब है कि फेसबुक के पास पहले से ज्यादा डेटा का एक्सेस होगा और फेसबुक की अन्य कंपनियां इसका इस्तेमाल

आप तक अपने प्रोडक्ट की पहुंच के लिए करेंगी। ऐसे दौर में जब डेटा एक उपयोगी चीज बन गया है, इसे शेयर करके फेसबुक और उसकी कंपनियां बड़ा लाभ कमाना चाहती हैं।

क्या व्हाट्सएप डिलीट करने से बनेगी बात?

अगर आप अपना डेटा शेयर नहीं करना चाहते तो फोन से ऐप अनइंस्टॉल करने का विकल्प चुन सकते हैं। हालांकि, इसका यह मतलब बिलकुल नहीं है कि आपका जितना भी डेटा स्टोर किया गया है वह तुरंत डिलीट हो जाएगा। व्हाट्सएप पर यह लंबे समय तक स्टोर रखा रह सकता है। व्हाट्सएप के मुताबिक, ‘जब भी अकाउंट डिलीट करें तो ध्यान रखें कि आपके द्वारा बनाए गए ग्रुप्स की जानकारी या अन्य लोगों के साथ की गई आपकी चैट जैसी जानकारी को प्रभावित नहीं करता है।’

क्या है आखिरी रास्ता

बता दें कि Whatsaap New policy 8000 शब्दों से भी ज्यादा लंबी है और इसमें इस प्रकार के कानूनी शब्दों का इस्तेमाल किया गया है कि एक आम आदमी को आसानी से समझ में ना आए ऐसे में अगर आप व्हाट्सएप के नए नियमों को स्वीकार नहीं करना चाहते तो बेहतर होगा कि आप Signal messenger,Telegram जैसे किसी अन्य एप्प का इस्तेमाल कर लें

Follow us Telegram

SBI ने ग्राहकों को दी ‘WhatsApp Warning’, जानें सबकुछ
WhatsApp New Privacy Policy Update : पॉलिसी है ‘ख़तरे की घंटी’, भारत में कोई क़ानून नहीं

thanks

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Scroll to top